भगवान शालिग्राम-तुलसी विवाह का शुभ मुर्हूत शाम 5 से 8 बजे तक

Buero Report

राजेश सोनी

भगवान शालिग्राम-तुलसी विवाह का शुभ मुर्हूत शाम 5 से 8 बजे तक

तखतपुर(बिलासपुर)….देवउठनी एकादशी के अवसर पर आज घर-घर में भगवान शालिग्राम और माता तुलसी का विवाह होगा। गन्ने के मंडप में पूरे विधि-विधान के अनुसार शाम को पूजा-पाठ होगा। अंचल में इसे छोटी दीवाली के रूप में भी मनाया जाता है। मान्यता के अनुसार भगवान श्री हरि विष्णु 4 माह के निद्रा के बाद आज जागते हैं। इसीलिए इसे देवउठनी एकादशी भी कहा जाता है। भगवान के जागृत होने के बाद अब सभी शुभ कार्य आदि शुरू हो जाते हैं। इसमें मांगलिक कार्य याने विवाह उत्सव आदि भी शामिल है।ज्योतिषाचार्य श्री विश्राम प्रसाद सोनी जी के शुभ मुर्हूत के अनुसार शाम 5 बजे से रात 8 बजे तक एकादशी पूजन का उत्तम मुर्हूत है। देर रात को तुलसी विवाह को वर्जित माना गया है, लिहाजा शुभ मुर्हूत के अनुसार ही पूजापाठ कर लिया जाना चाहिए। इधर बिलासपुर जिले के तखतपुर तहसील में बुधवार सुबह से ही देवउठनी एकादशी के लिए बाजार सजकर तैयार था।

पूजन सामग्रियां खरीदने के लिए लोग सुबह से ही बाजार पहुंचने लगे थे। आज के दिन गन्ने का विशेष महत्व माना जाता है। भगवान शालिग्राम और माता तुलसी का विवाह गन्ने के मंडप में भी कराया जाता है। लिहाजा शहर में गन्ने की खूब बिक्री हुई। बाजार में गन्ना 60 रुपए से लेकर 80 रुपए जोड़ी तक बिका। इसके अलावा बेर, चना भाजी, शकरकंद, लाई, बताशा, सिंघाड़ा आदि की भी खूब बिक्री हुई। पूजन में यह सभी सामग्रियां अनिवार्य मानी गई है। लिहाजा आम दिनों की अपेक्षा आज इन वस्तुओं की कीमत काफी अधिक रही।

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें 

Please Share This News By Pressing Whatsapp Button 

error: Content is protected !!
Buero Report
लोकल खबरें