नगर पंचायत पथरिया में नगर पंचायत भवन के समीप जायसवाल परिवार के द्वारा आयोजित श्रीमद् भागवत ज्ञान

Buero Report

रिपोर्टर- निगम मानिकपुरी

नगर पंचायत पथरिया में नगर पंचायत भवन के समीप जायसवाल परिवार के द्वारा आयोजित श्रीमद् भागवत ज्ञान

 

पथरिया –
नगर पंचायत पथरिया में नगर पंचायत भवन के समीप जायसवाल परिवार के द्वारा आयोजित श्रीमद् भागवत ज्ञान यज्ञ सप्ताह के छठवें दिन की कथा में कथा व्यास श्री गोवर्धन मठ पीठाधीश्वर जगतगुरु शंकराचार्य निश्चलानंद सरस्वती के कृपा पात्र शिष्य नंद कुमार शास्त्री ने कहा कि भारत हमारी माता है , यह मात्र भूमि नहीं है बल्कि मातृभूमि है ।अन्य देश को माता की उपाधि नहीं मिली है , बाकी तो केवल देश हैं माता कहलाने का सौभाग्य तो केवल हमारी भूमि को मिला है क्योंकि हमारी भूमि धर्म प्रधान देश है ।भगवत गीता में व्यास जी ने कहा है कि धर्म का क्षेत्र है भारत जहां युद्ध प्रारंभ होने वाला है । भारत को माता का सौभाग्य इसलिए मिला है, भारत ने ही राम ,कृष्ण , नरसिंह , वामन आदि रूप वाले भगवान को जन्म दिया है ।इसलिए भगवान को जन्म देने के कारण ही भारत माता कहलाया। यहां की विशेषता को बताते हुए महाराज ने बताया कि यहां धर्म की रक्षा के लिए लोग अपने आप को बलिदान करने से पीछे नहीं हटते ।इंसान की तो बात क्या यहां के पक्षी भी युद्ध करते हैं तो धर्म युद्ध करते हैं जब समाज में कोई विशिष्ट व्यक्ति जिसमें कोई विशेष शक्ति या पद युक्त रहता ऐसे लोग यदि गलती करें तो लोग उन्हें अनदेखा कर देते है, माता सीता जी का हरण हुआ तो सुग्रीव जी ने ऋष्यमुक पर्वत पर बैठे रहे किंतु हरण करने से रोका नहीं वही रोती बिलखती चिल्लाती सीता को देख गिद्धराज जटायु ने उन्हें धर्म पुत्री मानते हुए अपना जोर लगाकर उनसे युद्ध किया और दो क्षण के लिए रावण को मूर्छित कर दिया ।किसी ने पूछा जब रावण बेहोश था तो उसे मारे क्यों नहीं ,मार देना था तो उसने कहा कि चाहता तो मार सकता था लेकिन मैं रहने वाला धर्म प्रधान देश भारत का और भारतवासी वृद्ध पर, किसी निहत्थे पर ,और किसी सोए हुए पर वार नहीं करते ।प्रकृति की प्राणियों से प्रीत होती है ,जिसका चरित्र है उज्जवल उन्हीं की जीत होती है ,भले ही मैं गिद्ध पक्षी हूं तो भारतवासी भारत का प्राण धर्म ,धर्म मतलब अपना कर्तव्य ।इस प्रकार से भारत वासियों की महिमा बताते हुए भगवान के बाल लीला का वर्णन किया जिसमें भगवान के अवतार का कारण दूषित जल तत्व, अग्नि तत्व, वायु तत्व ,पृथ्वी तत्व और आकाश तत्व को शुद्ध करने हुआ। जैसे कालिया नाग का मर्दन कर जल तत्व को शुद्ध किए, मिट्टी खा कर मिट्टी तत्व को शुद्ध किए ,दावानल का पान कर अग्नि तत्व को शुद्ध किए ।आज की कथा में बाल लीला कालिया नाग के अभिमान मर्दन करते आदि का निरूपण करते हुए गिरिराज की कथा का वर्णन किया गया।
कथा मे मुख्य यजमान रामचंद्र जायसवाल एवं धर्मपत्नी लक्ष्मी जायसवाल है ।


कथा श्रवण करने धरम लाल कौशिक नेता प्रतिपक्ष छत्तीसगढ़ विधानसभा पहुचे, जिन्होंने जनता की सुख समृद्धि की कामना करते हुये महाराज जी का आशीर्वाद लिया और राम मंदिर निर्माण के लिए लोगो को सहयोग करने आगे आकर अपने छोटी बड़ी सहभागिता निभाने को कहा जिससे हमारी आनी वाली पीढ़ियों के लिए एक मिसाल कायम हो और एक भव्य राम मंदिर का निर्माण हो सके, साथ ही बड़ी संख्या में नगर सहित आसपास के गांव से भक्त श्रोतागण पहुंच रहे हैं। आयोजन 29 तारीख तक चलेगी।

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें 

Please Share This News By Pressing Whatsapp Button 

error: Content is protected !!
Buero Report
लोकल खबरें