भारतीय रेड क्रॉस सोसाइटी शाखा बिलासपुर एवं सिम्स अस्पताल के डॉक्टर के बीच कमीशन का धंधा जोरों पर

India news live 24

भारतीय रेड क्रॉस सोसाइटी शाखा बिलासपुर एवं सिम्स अस्पताल के डॉक्टर के बीच कमीशन का धंधा जोरों पर

राज गोस्वामी- 
बिलााासपु/ ररएक ओर अपने माता-पिता एवं बच्चों के इलाज के लिए सिम्स अस्पताल बिलासपुर में लोग विश्वास पर आते हैं लेकिन यहां इलाज शुरू होते ही जो डॉक्टरों के द्वारा दवाई लिखी जाती है उस पर्ची पर डॉक्टर की सील लगी रहती है जिससे दुकानदार समझ जाता है कि किस डॉक्टर ने भेजा है वह बहुत ही महंगी रहती है तथा बाहरी किसी भी दवाई दुकान में इनकी दवाई नहीं मिलती है सिर्फ रेड क्रॉस मेडिकल स्टोर में ही मिलेगी यदि डॉक्टर ने 10 दिन की दवाई लिखी हो और यदि मरीज 5 दिन की दवाई लेना चाहे तो उसे वापस कर दिया जाता है उसे जबरदस्ती 10 दिन की दवाई लेने के लिए बाधय किया जाता है एक तरफ प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र अत्यंत कम दर पर जेनेरिक दवाइयां कम दर पर उपलब्ध रहती है वह तो रहती ही नहीं है उसका पालन ठीक ढंग से नहीं किया जा रहा है सिर्फ महंगी दवाइयां ही मिलती हैं ऐसा ही मामला आज देखने को मिला पूर्व पार्षद राजेश मिश्रा इलाज हेतु सिम्स हॉस्पिटल गए तथा इलाज के पश्चात डॉक्टर ने जो दवाई लिखि वह दवाई मार्केट में किसी भी दवाई दुकान में नहीं मिली कमीशन के चक्कर में डॉक्टर ऐसी कंपनी की दवाई लिखते हैं जो सिर्फ रेड क्रॉस मेडिकल स्टोर में ही मिलेगी अन्य किसी दवाई दुकानों पर नहीं मिलेगी उन्होंने एक स्टाफ को दवाई की पर्ची तथा 500 रुपए लेकर भेजा तथा 3 दिन की दवाई मंगाया लेकिन रेड क्रॉस मेडिकल स्टोर के द्वारा जबरदस्ती दबाव डालकर 5 दिन की दवाई लेना पड़ेगा नहीं तो दवाई नहीं दी जाएगी इस प्रकार का कमीशन के चक्कर में दबाओ डालना समझ से परे है आम जनता परेशान हो रही है मैं छत्तीसगढ़ शासन के स्वास्थ्य मंत्री टी एस सिंहदेव जी से एवं जिलाधीश महोदय बिलासपुर से मांग करता हूं कि इसकी विधिवत जांच कराएं तथा कड़ाई से इसका पालन किया जाए जिससे आम जनता राहत की सांस ले सके तथा इन परेशानियों से बच सके तथा अन्य दवाई दुकानदारों की दुकान चल सके

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें 

Please Share This News By Pressing Whatsapp Button 

error: Content is protected !!
India news live 24
लोकल खबरें